छात्रों के माता पिता,

छात्रों के माता पिता आपका स्वागत है। अपने कूगर के करियर संबंधित निर्णय लेने की प्रक्रिया में आपका अत्यंत महत्वपूर्ण प्रभाव है. आपके छात्र के यूनिवर्सिटी ऑफ़ हूस्टन में पढ़ने के कालावधि में आप महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते है। आप सोच रहे होंगे कैसे ? अपने छात्र को आवश्यक कदम उठाने और समय से पहले यूनिवर्सिटी करियर सर्विसेज को भेट देने को प्रोत्साहित करे।


यू सी एस किस तरहसे आपके पाल्य की मदत कर सकता है?

यूनिवर्सिटी करियर सर्विसेज वर्तमान और पूर्व छात्रों के लिए सेवाओं की एक विस्तृत श्रेणी प्रदान करते है, जिसमें नीचे दिए हुए सेवाओं का समावेश है।

  • करियर काउन्सलिंग
  • वोकेशनल असेसमेंट
  • करियर वर्कशॉप्स
  • हैंडआउट्स
  • मोक इंटरव्यूज (नकली साक्षात्कार )
  • करियर डेवलपमेंट लाइब्रेरी (करियर संसाधन पुस्तकालय)
  • करियर डेवलपमेंट एंड एम्प्लॉयर रिसर्च रिसोर्सेस (करियर विकास एवं नियोक्ता अनुसंधान संसाधन)
  • रेज़ुमे बैंक
  • जॉब बैंक
  • कैंपस रिक्रूटमेंट
  • इंटर्नशिप सेवाएं
  • करियर फैर्स
  • करियर सक्सेस सीरीज
  • यूनिवर्सिटी करियर एडवाइजरी सर्विसेज
  • एलुमनाई सर्विसेज (भूतपूर्व छात्रों के लिए सेवाएं)
  • डिस्टेंस करियर सर्विसेज (दूरी करियर सेवा)

मैं अपने पाल्य को अकादमिक मेजर और करियर सम्बंधित निर्णय लेने में किस तरह से मदत कर सकता हूँ?

करियर और एक अकादमिक मेजर चुनने का निर्णय लेना छात्र तथा उनके मातापिता के लिए एक तनावपूर्ण एवं भ्रमकारी अनुभव हो सकता है। छात्रों को मनमाने ढंग से करियर और एक अकादमिक मेजर पर निर्णय लेने से पहले अपनी रूचि (इंट्रेस), व्यक्तित्व (पर्सनालिटी प्रैफरेंसेज), आदर्श कार्य वातावरण (आइडियल वर्क एनवायरमेंट) एवं व्यक्तिगत मूल्योंका (पर्सनल वैल्यूज) अन्वेषण करना महत्वपूर्ण है। अगर आपके पाल्य को अकादमिक मेजर चुनने में कठिनाई हो रही है तो उसे यू सी एस में जाने के लिए और करियर काउंसलर से बात करने पर प्रोत्साहित कीजिये। करियर कौन्सेलर्स को प्रशिक्षण मिला है जिससे वह छात्रों की विविध मूल्यांकन एवं दृष्टिकोण को स्पष्ट रूप से देख सकते है।

मेजर से जुड़े हुए मिथक

  • अधिकांश छात्रों ने कॉलेज के पहले दिन से ही अकादमिक मेजर चुना होता है। आकड़ों में विभिन्नता होने के बावजूद भी कॉलेज के प्रथम वर्ष में प्रवेश किये हुए छात्रों में से पचास प्रतिशत छात्रों ने अकादमिक मेजर नहीं चुना होता है।
  • एक बार मेजर चुनने के बाद मेरा बेटा/बेटी यू एच में पढ़ने के कालावधि में उसी मेजर पर बना रहेगा /बनी रहेगी। इसकी संभावना बहुत कम है, क्योँकि पचास से सत्तर प्रतिशत छात्र कम से कम एक बार अपना मेजर बदलते है और बहुतांश छात्र अंडरग्रेजुएट डिग्री प्राप्त करने से पहले कम से कम तीन बार मेजर बदलते है।
  • कामयाब होने के लिए छात्रों को अपने भविष्य से संबंधित मेजर चुनना आवश्यक है। कुछ छात्रों के लिए वे भविष्य में जो व्यवसाय करना चाहते है उसीसे संबंधित मेजर चुनना उपयुक्त होता है। सच्चाई यह है कि पचास प्रतिशत से अधिक छात्रों ने आगे चलकर वह करियर चुना है जो उनके मेजर से संबंधित नहीं है। भर्ती का निर्णय करते समय एम्प्लायर छात्र के मेजर के अलावा उसके सॉफ्ट स्किल डेवलपमेंट (लीडरशिप स्किल्स, कम्युनिकेशन स्किल्स ) को भी देखते है।
  • करियर मूल्यांकन (असेसमेंट) तथा करियर काउंसलर छात्र को कौनसा करियर और कौनसा मेजर चुनना चाहिए ये बता सकता है। करियर सलाहगार के नाते हमारा काम आपके लिए निर्णय लेने का नहीं, बल्कि आपके करियर का अन्वेषण एवं निर्णय लेने में मार्गदर्शन करना है। इस मूल्यांकन (करियर असेसमेंट) का उपयोग हम छात्रों को उनकी रूचि, सामर्थ्य एवं लक्ष्य स्पष्ट होने के उद्द्येश से करते है जिससे निर्णय लेते समय छात्रों को मदद मिले।

इंटर्नशिप क्या है ?

यूनिवर्सिटी करियर सर्विसेज, यूनिवर्सिटी ऑफ़ हॉस्टन के सभी वर्त्तमान छात्रों को इंटर्नशिप खोज के सभी चरणों में सेवा देने के लिए सुसज्जित है। इंटर्नशिप में छात्र एक पर्यवेक्षित व्यवसायपूर्व अध्ययन का अनुभव लेता है, जहाँ एक व्यावसायिक ढाँचे में वे अपनी निपुणता एवं ज्ञान का उपयोग कर सकता है। यह अनुभव छात्र के मेजर तथा करियर के हित से संबंधित है और छात्र को अपने चुने हुए पेशे में काम करने का पूर्वावलोकन प्रदान करता है।

इंटर्नशिप भिन्न तरह की होती है, कभी गर्मियों में तो कभी शैक्षणिक सत्र के दौरान भी आयोजित की जा सकती है। कुछ इंटर्नशिप अंशकालीन तो कुछ पूर्णकालीन, भुगतान सह या भुगतान के सिवा की जा सकती है। अगर इंटर्नशिप का काम शैक्षणिक विभाग की समग्र आवशक्ताएं और पात्रताओं को पूरा करता है तब आप शैक्षणिक ऋण (अकादमिक क्रेडिट) के लिए योग्य हो सकते है। अधिक जानकारी के लिए हमारे इंटर्नशिप सेवाएं अनुभाग पर जाये। साथ ही में छात्र को इंटर्नशिप खोज मार्गदर्शक का उपयोग करने पर प्रोत्साहित कीजिए।

छात्र को अपने काम के बारे में वास्तविक दुनिया का अनुभव प्राप्त करने हेतु इंटर्नशिप उपयुक्त होती है, जिसका अनुभव छात्र के ग्रेजुएशन पश्चात करनेवाले काम से मिलता जुलता है। नेशनल एसोसिएशन ऑफ़ कॉलेजेस एंड एम्प्लॉयर्स ने सन २०१२ में डेटा जारी किया था, जो दर्शाता है कि भुगतान सह या विना भुगतान, दोंनो तरह की इंटर्नशिप छात्रों को नौकरी प्राप्त करने में लाभदायी रही ; जिसमें ग्रेजुएशन के बाद नौकरी हासिल करनेवाले छात्रों में ६० प्रतिशत छात्रों ने भुगतान सह तथा ३७ प्रतिशत छात्रों ने विना भुगतान इंटर्नशिप की थी।


छात्र अपनी नौकरी पाने की क्षमता कैसे वृद्धिंगत कर सकता है?

बैचलर्स डिग्री प्राप्त होने के बाद, रोजगार बाजार (जॉब मार्किट) में क्षमतापूर्ण प्रतिस्पर्धा के रूप में उभरने के लिए छात्रों को एक डिग्री के साथ विविध क्षमताओं की भी ज़रूरत है। एम्प्लॉयर्स छात्रों में अलग अलग तरह के कौशल ढूंढते है जैसे की काम का पूर्वानुभा, चाहे वो काम से सुसंगत हो या न हो, प्रभावी संपर्क कौशल (कम्युनिकेशन स्किल्स), ग्राहक सेवा कौशल (कस्टमर सर्विस), तकनिकी ज्ञान (टेक्निकल नॉलेज), सामूहिक कार्य निपुणता (टीमवर्क एबिलिटी) एवं नेतृत्व गुण क्षमता (लीडरशिप एबिलिटी) कार्य विश्व में आजकल चल रहे वैश्विकरण (ग्लोबलाइजेशन) और विविधीकरण (डायवर्सिफिकेशन) के प्रवाह की वजह से विस्तृत श्रेणी का अनुभव एवं ज्ञान होना आवशयक है।

नीचे दिए हुए तरीकों से छात्र अपनी नौकरी पाने की क्षमता वृद्धिंगत कर सकता है:

  • एक या अधिक वैश्विक परिप्रेक्ष्य हासिल करने के लिए विदेश में अध्ययन करे (स्टडी अब्रॉड )
  • यू एच प्राध्यापक के साथ टियर वन शैक्षणिक अनुसंधान (रिसर्च ) में भाग ले
  • परिसर की गतिविधियों में सहभागी होकर नेटवर्किंग और नेतृत्व (लीडरशिप) कौशल पाएं
  • प्रासंगिक एवं वास्तविक दुनिया का अनुभव प्राप्त करने के लिए इंटर्नशिप हासिल कीजिये
  • करियर के मार्गों (करियर पाथ) की अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए करियर काउंसलर से मिले
  • खुद्की विक्रयता (मार्केटिबिलिटी) वृद्धिगंत करने के लिए गौण विषय (माइनर) चुनने के बारे में विचार करे

यूनिवर्सिटी करियर सर्विसेज में हम छात्रों को नौकरी की तलाश से संबंधित बारिकियों से अवगत कराते है जो छात्रों को नौकरी रखने में लाभप्रद होती है। अपनी करियर के कालावधि में एक ही कंपनी में एक ही स्थान पर काम करने का ज़माना अब नहीं रहा। इस लिए आज के नॉन-लीनियर करियर पाथ के ज़माने में जॉब सरक स्किल्स बहुत महत्वपूर्ण है। आपके बेटे या बेटी को उसकी नियोजिनीयता का विकास करने के लिए करियर काउंसलर से मिलने को प्रोत्साहित कीजिये। नौकरी खोजने की प्रक्रिया के सफल मार्ग निर्देशन के लिए, छात्र "द सक्सेसफुल जॉब सर्च" हैंडआउट की मदद कर सकता है।